पथारूघाट किसान विद्रोह - Patharughat Kisan Vidroh

जनवरी, 1894 में 100 से ज़्यादा किसानो को अंग्रेज़ों ने गोली मार दी थी। यह घटना आसाम के पथारूघाट या पथारीघाट में हुई थी। इस दिन किसान अंग्रेज़ों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। अंग्रेजों ने सैनिकों ने इन किसानों पर गोली चलाने का हुक्म दिया जिसकी वजह से कई किसानों की मृत्यू हुई।


विद्रोह का कारण:

1826 में ब्रिटिश द्वारा असम पर कब्जे के बाद, इस राज्य की वृहद भूमि का सर्वेक्षण शुरू हुआ.  इस तरह के सर्वेक्षणों के आधार पर, अंग्रेजों ने भूमि कर लगाना शुरू कर दिया था जिस कारण से किसानों में असंतोष फैला। 1893 में, ब्रिटिश सरकार ने कृषीय भूमिकर को 70- 80% तक वृध्दि का निर्णय लिया था।


कृषक स्वाहिद दिवस :

28 जनवरी, 2001 को सेना द्वारा एक शहीद स्तंभ स्थल बनाया गया था और असम के पूर्व राज्यपाल एस.के सिन्हा (SK Sinha) द्वारा  इसका अनावरण किया गया था। प्रति वर्ष 28 जनवरी को, सरकार और स्थानीय लोग कृषक स्वाहिद दिवस मनाते हैं ।


नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.