भारत में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल (UNESCO World Heritage Sites in India)

यूनेस्को (UNESCO – संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization) संयुक्त राष्ट्र (United Nation) का ही एक भाग है।
मुख्यालय - पेरिस (फ्राँस)
गठन - 16 नवंबर, 1945

भारत में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थलो (UNESCO World Heritage Sites in India) की संख्या 40 (32 सांस्कृतिक, 7 प्राकृतिक और 1 मिश्रित) हैं। 

  • जुलाई, 2021 को धोलाविरा को 40 वा विश्व धरोहर स्थल के रूप में चुना गया।
  • यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति का 44 वा सत्र 
  • स्थल – चीन के फ़ूज़ौ में ऑनलाइन।
  • तिथि – 16 जुलाई – 31 जुलाई 2021।

यूनेस्को विश्व धरोहर स्थलो की सूची :

  1. आगरा का किला, उत्तर प्रदेश (1983) 
  2. अजंता गुफाएं, महाराष्ट्र (1983)
  3. एलोरा गुफाएं, महाराष्ट्र (1983)
  4. ताज महल, उत्तर प्रदेश (1983)
  5. महाबलीपुरम में स्मारकों के समूह, तमिलनाडु (1984)
  6. सूर्य मंदिर, कोणार्क, ओड़िशा (1984)
  7. गोवा के चर्चऔर कॉन्वेंट, गोवा (1986)
  8. फतेहपुर सीकरी, उत्तर प्रदेश (1986)
  9. हम्पी में स्मारकों के समूह, कर्नाटक (1986)
  10. स्मारक के खजुराहो समूह, मध्य प्रदेश (1986)
  11. एलीफेंटा गुफाएं, महाराष्ट्र (1987)
  12. महान चोला मंदिर, तमिलनाडु (1987)
  13. पट्टकल में स्मारकों के समूह, कर्नाटक (1987)
  14. सांची में बौद्ध स्मारक, मध्य प्रदेश (1989)
  15. हुमायूं का मकबरा, दिल्ली (1993)
  16. कुतुब मीनार और उसके स्मारक, दिल्ली (1993)
  17. भारत की पर्वतीय रेल (दार्जिलिंग/नीलगिरी/शिमला),पश्चिम बंगाल/तमिलनाडु/हिमाचल प्रदेश(1999/2005/2008)
  18. बोधगया में महाबोधि मंदिर परिसर, बिहार (2002)
  19. भीमबेटका के रॉक शेल्टर्स, मध्य प्रदेश (2003)
  20. चंपानेर- पावागढ़ पुरातत्व पार्क, गुजरात (2004)
  21. छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (पूर्व विक्टोरिया टर्मिनस), महाराष्ट्र  (2004)
  22. लाल किला परिसर, दिल्ली (2007)
  23. जंतर मंतर, जयपुर,राजस्थान (2010)
  24. राजस्थान के पहाड़ी किलों, राजस्थान (2013)
  25. रानी की वाव पाटन, गुजरात (2014)
  26. नालंदा, बिहार (2016)
  27. ली कार्बुसियर के स्थापत्य कार्य, चंडीगढ़ (2016)
  28. अहमदाबाद, गुजरात (2017)
  29. विक्टोरियन गोथिक और आर्ट डेको, महाराष्ट्र (2018)
  30. जयपुर, राजस्थान (2019)
  31. रामप्पा मंदिर, तेलंगना (2021)
  32. धोलावीरा पुरातात्विक स्थल, गुजरात (2021)
  33. काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान,असम (1985)
  34. केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, राजस्थान (1985)
  35. मानस वन्यजीव अभयारण्य, असम (1985)
  36. नंदा देवी और फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान, उत्तराखंड (1988)
  37. सुंदरवन राष्ट्रीय उद्यान, पश्चिम बंगाल (1987)
  38. पश्चिमी घाट, गुजरात,महाराष्ट्र, कर्नाटक,तमिलनाडु,केरल (2012)
  39. ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क, हिमाचल प्रदेश (2014)
  40. खंगेंदज़ोंगा (कंचनजंगा) राष्ट्रीय उद्यान, सिक्किम (2016)

Olympic Games Tokyo 2020 - विजेताओं की सूची

 

Olympic Games Tokyo 2020 का आयोजन 24 जुलाई 2020 से 9 अगस्त 2020 के बीच टोक्यो, जापान, में होना था। परंतु कोरोना महामारी की वजह से इसे स्थगित कर दिया गया। अब ओलंपिक खेलो की आयोजन तिथि 23 जुलाई 2021 से 08 अगस्त 2021 है। खेलों की मेजबानी के लिए अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति ने 7 सितम्बर 2013 को ब्यूनस आयर्स, अर्जेंटीना, में अपने 125वें अधिवेशन में टोक्यो को मेजबान शहर घोषित किया था।


विजेताओं की सूची:

  1. मीराबाई चानू – वेटलिफ्टिंग ( 49 किग्रा ) – रजत पदक


विशेष:

  1. मीराबाई चानू ने 21 वर्षो के बाद भारोत्तालन में भारत को पदक दिलाया है। इससे पहले, मणिपुर की 26 वर्षीय भारोत्तोलक ने कुल 202 किग्रा (87 किग्रा + 115 किग्रा) से कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 सिडनी ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था।

अन्य :
मनिका बत्रा ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 में पहले दौर का मैच जीतकर इतिहास रचा। वह 1992 के बाद ओलिंपिक के पहले दौर में जीतने वाली पहली भारतीय महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं।



मदोड़ा एवं बाड़गो जलप्रपात – Madoda and Badgo Waterfall

मदोड़ा एवं बाड़गो जलप्रपात छत्तीसगढ़ राज्य के कोंडागांव जिले में अंतागढ़ ब्लॉक से कुछ दूरी पर एक नाले में स्थित जलप्रपात है।

मदोड़ा जलप्रपात अंतागढ़ ब्लॉक के मानकोट गांव से 5 किमी दूर नाले पर स्थित हैं, इसकी ऊंचाई लगभग 50 फिट है। मानकोट से ही लगभग 3 किमी की दूरी बाड़गो जलप्रपात स्थित है। इसकी ऊंचाई लगभग 60 फिट है। बाड़गो जलप्रपात में दो सोपान है।

दोनो ही जलप्रपात छोटे नाले पर स्थित है, इस वजह से बरसात के मौसम में इन जलप्रपातो की सुंदरता बढ़ जाती है।

भारतीय वायु सेना (IAF) में 334 पदो पर होगी नियुक्ति


भारतीय वायु सेना (IAF) में 334 पदो पर होगी नियुक्ति होगी। इन पदों पर एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट (AFCAT-2) के माध्यम से कमीशन अधिकारियों के पद पर भर्ती (IAF AFCAT 2 Recruitment 2021) के लिए आवेदन मांगे हैं।


आवेदन तिथि : अध्यर्थी 30 जून तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।


आयु सीमा 

फ्लाइंग ब्रांच : AFCAT से - 20 से 24 वर्ष। आयु की गणना 1 जुलाई 2022 से होगी। यानी आवेदक का जन्म 02 जुलाई 1998 से 01 जुलाई 2002 के बीच हुआ हो। 

ग्राउंड ड्यूटी (टेक्निकल एंड नॉन टेक्निकल) - 20 से 26 वर्ष। आयु की गणना 1 जुलाई 2022 से होगी। यानी आवेदक का जन्म 02 जुलाई 1996 से 01 जुलाई 2002 के बीच हुआ हो।


शैक्षणिक योग्यता

फ्लाइंग ब्रांच : 50 फीसदी मार्क्स के साथ 12वीं पास, 12वीं में मैथ्स व फिजिक्स विषय होना जरूरी एवं कम से कम 60 फीसदी अंको के साथ किसी भी विषय में स्नातक

या 

कम से कम 60 फीसदी अंको के साथ बीई/बीटेक डिग्री


ग्राउंड ड्यूटी (टेक्निकल) ब्रांच 

50 फीसदी मार्क्स के साथ 12वीं पास, 12वीं में गणित व फिजिक्स विषय होना जरूरी एवं इंजीनियरिंग में चार वर्षीय डिग्री/इंटीग्रेटेड पोस्ट ग्रेजुएशन 


ग्राउंड ड्यूटी (नॉन टेक्निकल) 

एडमिनिस्ट्रेशन : 12वीं पास एवं 60 फीसदी अंकों के साथ किसी भी विषय में ग्रेजुएशन 

एजुकेशन : 12वीं पास, कम से कम 50 फीसदी मार्क्स के साथ पोस्ट ग्रेजुएशन एवं कम से कम 60 फीसदी मार्क्स के साथ ग्रेजुएशन

मेट्रोलॉजी : 12वीं पास एवं साइंस स्ट्रीम/मैथ्स/स्टैट्स/ज्योग्राफी/कंप्यूटर एप्लीकेशन/एनवायरमेंट साइंस/एप्लाइड फिजिक्स/ओशियनोग्राफी/मेट्रोलॉजी/एग्रीकल्चर मेट्रोलॉजी/इकोलॉजी एंड एनवायरनमेंट/जियो फिजक्स/एनवायरनमेंटल बायोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री (50 फीसदी अंको के साथ)





नोटिफिकेशन डाउनलोड करें

ऑनलाइन एप्लीकेशन लिंक


छत्तीसगढ़ में स्टाफ नर्स के 267 पदों पर भर्ती


स्वास्थ्य सेवा (DHS) निदेशालय, छत्तीसगढ़ ने स्टाफ नर्स के 267 पदों पर भर्ती के लिए योग्य अभ्यर्थी से आवेदन मांगे हैं। इन पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया 27 मई से शुरू हो चुकी है। अभ्यर्थी ऑफिशियल वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन की आखिरी तारीख 26 जून तय की गई है।


पदों की संख्या : 267

योग्यता : बी.एससी (नर्सिंग), पी.बी.बी.एससी. नर्सिंग या जनरल नर्सिंग और सीनियर ऑब्सटेट्रिक्स (सीनियर मिडवाइफरी) प्रशिक्षण पास।

आयु सीमा :  18 – 35 वर्ष। राज्य के मूल निवासी के लिए अधिकतम उम्र 40 साल तक तय की गई है। 

जरूरी तारीखें :

ऑनलाइन आवेदन शुरू होने की तारीख- 27 मई

ऑनलाइन आवेदन की आखिरी तारीख- 26 जून

 चयन प्रक्रिया : मेरिट के आधार।

ऑफिशियल नोटिफिकेशन देख सकते हैं।

Registration link https://cg.nic.in/health/recstaffnurse2021may/

गोपाल कृष्ण गोखले का छत्तीसगढ़ आगमन

स्वतंत्रता सेनानी गोपाल कृष्ण गोखले का छत्तीसगढ़ के रायपुर में मई, 1915 को आगमन हुआ था। का उनके आगमन का उद्देश्य बुद्धिजीवियों को देश की राजनीति से जागृत एवं सक्रिय करना था ।

उनके आगमन पर वामनराव लाखे के निवास पर एक सम्मेलन आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन में रायपुर से पं. रविशंकर शुक्ल, लक्ष्मण राव उदयगीरकर, वामन राव लाखे; धमतरी से नारायण राब मेघावाले, नत्थूजी जगताप, बाबू छोटे लाल; राजनांदगांव से ठा. प्यारेलाल सिंह; राजिम से पं. सुंदर लाल शर्मा आदि शामिल हुए।

इस सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया कि ‘स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है’ का प्रचार गाँव-गाँव में किया जाए।


इन्हे देखें:

महात्मा गांधी जी का छत्तीसगढ़ आगमन

छत्तीसगढ़ के प्रमुख व्यक्तित्व


लघु वनोपज – समर्थन मूल्य(छत्तीसगढ़)


लघु वनोपज (Minor Forest Produce - MFP) में सभी गैर-लकड़ी वन उपज को शामिल शामिल किया गया है।


वन धन विकास केंद्र:

इसका उद्देश्य जनजातीय लोगों और कारीगरों को "लघु वनोपज" केंद्रित आजीविका विकास को बढ़ावा देना है। वन धन विकास केंद्रों की स्थापना "वन धन योजना" कार्यक्रम के तहत की गई है, जिसे देश में सबसे पहले छत्तीसगढ़ में 2018 में लॉन्च किया गया था।


समर्थन मूल्य(छत्तीसगढ़)

भारत सरकार, जनजातीय कार्य मंत्रालय नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2014-15 में न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना लागू की गई है। संघ द्वारा भारत शासन के न्यूनतम समर्थन मूल्य योजनांतर्गत हर्रा एवं सालबीज का संग्रहण वर्ष 2014-15 से, महुआ बीज, इमली, चिरौंजी गुठली, कुसुमी लाख एवं रंगीनी लाख 2015-16 से कालमेघ, बहेड़ा, नागरमोथा, कुल्लू गॉद, पुवाड़, बेलगुदा, शहद, फूल झाडू वर्ष 2018-19 से, महुआ फूल (सूखा), जामुन बीज (सूखा), काँच, धवई फूल (सूखा), करंज बीज, बायबडिंग, आंवला बीज रहित वर्ष 2019-20 से एवं मेलवा, इमली बीज, फूल इमली (इमली बीज रहित), बहेड़, कचरिया, गिलोय, नीम बीज, हर्रा कचरिया, वन जीरा, वन तुलसी (बीज) वर्ष 2020-21 से इस प्रकार कुल 31 लघु वनोपज का कय किया जा रहा है साथ ही अन्य प्रमुख एवं गौण वनोपजों का सफलतापूर्वक संग्रहण किया जा रहा है।

दिसंबर, 2020 से राज्य शासन ने 38 प्रमुख लघु वनोपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित किया है। इसके अलावा राज्य लघु वनोपज संघ के द्वारा 14 अन्य महत्वपूर्ण लघु वनोपज की खरीदी निर्धारित दर पर किया जा रहा है। इस प्रकार छत्तीसगढ़ में कुल 52 लघु वनोपज को समर्थन मूल्य में खरीदा जायेगा।

राज्य शासन द्वारा 38 लघु वनोपज हेतु निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य के तहत 

  1. ईमली बीज सहित 36 रुपए प्रति किलोग्राम,
  2. महुआ बीज 29 रुपए,
  3. कालमेघ 35 रुपए, 
  4. नागरमोथा 30 रुपए,
  5. बेलगुदा 30 रुपए,
  6. शहद 225 रुपए, 
  7. महुआ फूल सूखा 30 रुपए, 
  8. जामुन बीज सूखा 42 रुपए,
  9. जामुन (कच्चा) 23 रुपए,
  10. बेल (कच्चा) 10 रुपए,
  11. कौंच बीज 21 रुपए,
  12. करंज बीज 22 रुपए, 
  13. बायबडिंग 94 रुपए,
  14. आंवला बीज रहित 52 रुपए, 
  15. फूल ईमली बीज रहित 63 रुपए, 
  16. सालबीज 20 रुपए, 
  17. चिरौंजी गुठली 126 रुपए, 
  18. हर्रा साबुत 15 रुपए,
  19. बहेड़ा साबुत 17 रुपए, 
  20. पुवाड़ चरौटा बीज 16 रुपए,
  21. गिलोय 40 रुपए,
  22. भेलवां 9 रुपए,
  23. कुसमी लाख 300 रुपए,
  24. रंगीनी लाख 220 रुपए,
  25. कुल्लू गोंद 125 रुपए,
  26. वन तुलसी बीज 16 रुपए,
  27. वन जीरा बीज 70 रुपए, 
  28. ईमली बीज 11 रुपए, 
  29. बहेड़ा कचरिया 20 रुपए,
  30. हर्रा कचरिया 25 रुपए, 
  31. नीम बीज 27 रुपए,
  32. कुसुम बीज 23 रुपए,
  33. रीठा फल सूखा 14 रुपए,
  34. शिकाकाई फल्ली सूखा 14 रुपए,
  35. सतावर जड़ सूखा 107 रुपए,
  36. काजू गुठली 90 रुपए,
  37. मालकांगनी बीज 100 रुपए,
  38. माहुल पत्ता का 15 रुपए

FIRMS क्या है ?


FIRMS का पूरा नाम Flood Reporting and Information Management System है, यह एक डिजिटल वास्तविक समय (रियल टाइम) ऑनलाइन बाढ़ रिपोर्टिंग प्रणाली है। इसे 08 मई, 2021 को असम के मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ ने शुभारंभ किया।

असम एक डिजिटल बाढ़ रिपोर्टिंग प्रणाली को अपनाने वाला ऐसा पहला भारतीय राज्य है। FRIMS प्रणाली 15 मई, 2021 से चालू हो जाएगा।


किसने विकसित किया ?

इसे असम राज्य आपदा प्रबंधन एजेंसी (ASDMA) और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) द्वारा संयुक्त रूप से विकसित की गई है।





क्या है ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाइसिस) रोग


म्यूकोरमाइसिस (Mucormycosis) फंगस (ब्लैक फंगस) इंफेक्शन से जुड़ी बीमारी है। इस फंगस के स्पोर्स या बीजाणु वातावरण में प्राकृतिक रूप से मौजूद होते हैं। आमतौर पर इनसे कोई ख़तरा नहीं, लेकिन शरीर का इम्युनिटी सिस्टम कमजोर हो, तो यह फंगस जानलेवा साबित हो जाते हैं। 

शुगर के मरीज इस बीमारी के ज्यादा ज्यादा शिकार हो रहे हैं। इस रोग में आंख की नसों के पास फंगस इंफेक्शन जमा हो जाता है, जो सेंट्रल रेटिनल आर्टरी का ब्लड फ्लो बंद कर देता है। इसकी वजह से आंखों की रोशनी चली जाती है। 


ब्लैक फंगस कैसे शरीर हो प्रभावित करता है ?

ब्लैक फंगस आंख, नाक के रास्ते ये फंगस दिमाग तक पहुंचता है।साइनस, मस्तिष्क और फेफड़े को प्रभावित करता है। यह रास्ते में आने वाली हड्डी और त्वचा को नष्ट कर देता है और इसमें मृत्यु दर काफी ज्यादा है। 


ब्लैक फंगस के लक्षण :

चेहरे का एक तरफ से सूज जाना, सिरदर्द होना, नाक बंद होना, उल्टी आना, बुखार आना, चेस्ट पेन होना, साइनस कंजेशन, मुंह के ऊपर हिस्से या नाक में काले घाव होना जो बहुत ही तेजी से गंभीर हो जाते हैं। Source


बचाव :

कोरोना वायरस से ठीक हो चुके लोगों को हाइपरग्लाइसिमिया पर नियंत्रण करना जरूरी है। इसके अलावा डायबिटिक मरीजों को ब्लड ग्लूकोज लेवल चेक करते रहना चाहिए।

स्टेरॉयड लेते वक्त सही समय, सही डोज और अवधि का ध्यान रखना भी बहुत आवश्यक है।



वर्तमान में चर्चा में क्यों है ?

कोरोना संक्रमित मरीज या कोरोना से स्वस्थ हुए कुछ मरीजों में ब्लैक फंगस इंफेक्शन देखा गया है।


Source : अमर उजाला

"सीजी टीका" / CG TEEKA APP/Portal


राजधानी रायपुर में 18 प्लस टीकाकरण के लिए लोगों को वैक्सीनेशन सेंटर में रजिस्ट्रेशन के लिए मारामारी से बचाने के लिए स्वास्थ्य के विभाग द्वारा 12 मई को ‘सीजी टीका / CG TEEKA' एप/पोर्टल(Portal) लॉच किया।

Note : सीजी टीका एक वेब एप्लीकेशन है।


टीकाकरण कराने जाएं तो ये दस्तावेज जरूरी

  • अंत्योदय और बीपीएल श्रेणी के लिए हितग्राहियों को निर्धारित आईडी- दस्तावेज के साथ राशन कार्ड भी दिखाना होगा।
  • एपीएल श्रेणी के लिए निर्धारित पहचान पत्र आईडी जैसे आधार, पेन कार्ड या अन्य मान्य दस्तावेज में से कोई एक दिखाना होगा।
  • फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में आने वालों को पहचान पत्र लाना होगा।
  • इसके अलावा शासकीय कर्मचारियों के लिए जिला स्तरीय अधिकारी का प्रमाण पत्र।
  • वकीलों के लिए बार काउंसिल का पंजीकरण प्रमाण पत्र।
  • पत्रकारों के लिए जिले के पीआरओ द्वारा जारी प्रमाण पत्र।
  • अन्य व्यक्तियों के लिए जिला कलेक्टर द्वारा अधिकृत अधिकारी का प्रमाण पत्र लाना होगा।

पंजीयन (Registration) कैसे करेंगे ?
पंजीयन करने के लिए आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर सकते है।