कंप्यूटर मेमोरी और इसके प्रकार Computer Memory and types

कंप्यूटर मेमोरी का इस्तेमाल डेटा और निर्देश को स्टोर करने के लिए किया जाता है। मेमोरी सिस्टम को 4 श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है:

  1. सीपीयू रजिस्टर
  2. कैश मेमरी
  3. प्राथमिक / मुख्य स्मृति (Primary memory)
  4. सेकेंडरी मेमोरी / मास स्टोरेज

प्राथमिक / मुख्य स्मृति (Primary memory) :
प्राइमरी मेमोरी को सीपीयू द्वारा सीधे एक्सेस किया जा सकता है। यह उपलब्ध सबसे तेज़ मेमोरी है कुछ प्राइमरी मेमोरी अस्थिर (Volatile) भी होते है, यानी बिजली बंद होने के बाद इसमे संग्रहित डाटा मिट जाता है।

RAM
RAM का मतलब रैंडम एक्सेस मेमोरी है। यह एक अस्थिर (Volatile) मेमोरी है। जिसका उपयोग कंप्यूटर में प्राथमिक और डाटा मेमोरी के रूप में किया जाता है। प्रोसेसर सभी मेमोरी एड्रेस को सीधे एक्सेस करता है, ये स्टोरेज और रिट्रीवल को तेज बनाता है। RAM सबसे तेज उपलब्ध मेमोरी है और इसलिए सबसे महंगी है। ये दो प्रकार के होते है :

DRAM (डायनेमिक रैम)
DRAM में प्रत्येक मेमोरी सेल एक ट्रांजिस्टर और एक कैपेसिटर से बना होता है, जो एक बिट डेटा स्टोर करता है।DRAM का आविष्कार 1968 में रॉबर्ट डेनार्ड द्वारा किया गया था और 70 के दशक में Intel® द्वारा बाजार में उतारा गया था। 
DRAM के सेल अपना चार्ज खोना शुरू कर देता है और इसलिए डेटा एक सेकंड के हज़ारवें हिस्से से भी कम समय में स्टोर हो जाता है। इसलिए इसे एक सेकंड में हजार बार रिफ्रेश करने की जरूरत होती है, जिसमें प्रोसेसर का समय लगता है। हालाँकि, प्रत्येक कोशिका के छोटे आकार के कारण, एक DRAM में बड़ी संख्या में कोशिकाएँ हो सकती हैं। अधिकांश पर्सनल कंप्यूटरों की प्राथमिक मेमोरी DRAM से बनी होती है।

DRAM के प्रकार :
1. SDRAM
सिंक्रोनस डीआरएएम, या एसडीआरएएम, अपने पिन के माध्यम से प्रदर्शन में सुधार करता है, जो मुख्य मेमोरी और माइक्रोप्रोसेसर के बीच डेटा कनेक्शन के साथ समन्वयित होता है। 1990 के दशक के मध्य से कंप्यूटरों ने इस सिंकिंग सुविधा का उपयोग किया है।

2. DDR SDRAM
डीडीआर एसडीआरएएम में एसडीआरएएम की विशेषताएं हैं, लेकिन दो बार डेटा ट्रांसमिशन आवृत्ति के साथ। इसलिए इसे "डबल डेटा रेट SDRAM" कहा जाता है।

3. ECC DRAM
इस प्रकार का DRAM दूषित डेटा ढूंढ सकता है और कभी-कभी इसे ठीक भी कर सकता है, इसके त्रुटि-सुधार कोड (ECC) के लिए धन्यवाद।

4. DDR
डीडीआर का पूर्ण नाम डबल डेटा रेट है, जिसका अर्थ है कि चिप प्रति घड़ी चक्र में डेटा के दो शब्द पढ़ता या लिखता है।
कई HP और अन्य कंप्यूटर DDR श्रृंखला के DRAM चिप्स का उपयोग करते हैं। प्रौद्योगिकी एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में सुधार करती है, जो संख्या श्रृंखला द्वारा इंगित की जाती है। जैसे कि DDR2 से उन्नत DDR3 है और DDR3 से उन्नत DDR4 है।


SRAM (एसआरएएम)
SRAM में प्रत्येक सेल एक फ्लिप फ्लॉप से ​​बना होता है जो एक बिट को स्टोर करता है। बिजली की आपूर्ति चालू होने तक यह अपना बिट बरकरार रखता है और इसे DRAM की तरह रीफ्रेश करने की आवश्यकता नहीं होती है। DRAM की तुलना में इसमें पढ़ने-लिखने का चक्र भी छोटा है। SRAM का उपयोग विशेष अनुप्रयोगों में किया जाता है।


ROM
रीड-ओनली मेमोरी (ROM) एक प्रकार की नॉन-वोलाटाइल ( परिवर्तन नहीं किया जा सकता) मेमोरी है जिसका उपयोग कंप्यूटर और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में प्राथमिक और प्रोग्राम मेमोरी के रूप में किया जाता है। मेमोरी डिवाइस के निर्माण के बाद ROM में संग्रहीत डेटा को इलेक्ट्रॉनिक रूप से संशोधन या मिटाया नहीं जा सकता है। रीड-ओनली मेमोरी सॉफ्टवेयर को स्टोर करने के लिए उपयोगी होती है जिसे सिस्टम के जीवन के दौरान शायद ही कभी बदला जाता है, जिसे फर्मवेयर (Firmware) के रूप में भी जाना जाता है। प्रोग्राम योग्य उपकरणों के लिए सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन (जैसे वीडियो गेम) को ROM युक्त प्लग-इन कार्ट्रिज के रूप में वितरित किया जा सकता है।

ROM को चार प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है- MROM, PROM, EPROM और EEPROM।
  1. MROM (Mask ROM) - मास्क ROM एक प्रकार की रीड-ओनली मेमोरी है, ROM में उपस्थित डेटा को उपयोगकर्ताओं के द्वारा मिटाया या रिप्रोग्राम नहीं किया जा सकता।
  2. PROM (प्रोग्रामेबल रीड-ओनली मेमोरी) - इसे उपयोगकर्ता द्वारा सिर्फ एक बार प्रोग्राम किया जा सकता है।
  3. EPROM (इरेजेबल प्रोग्रामेबल रीड-ओनली मेमोरी) - इसे रिप्रोग्राम किया जा सकता है। इसमे उपस्थित को डेटा मिटाने के लिए, इसे पराबैंगनी प्रकाश का उपयोग किया जाता है। 
  4. EEPROM (इलेक्ट्रिकली इरेज़ेबल प्रोग्रामेबल रीड-ओनली मेमोरी) - डेटा को विद्युत की सहायता से मिटाया जा सकता है। हम चिप के केवल कुछ हिस्सों को मिटा सकते हैं।


सेकेंडरी मेमोरी / मास स्टोरेज (Secondary memory) :

प्रोसेसर सीधे सेकेंडरी मेमोरी के साथ इंटरैक्ट नहीं करता है। सेकेंडरी मेमोरी की सामग्री पहले प्राथमिक मेमोरी में स्थानांतरित हो जाती है और फिर प्रोसेसर द्वारा एक्सेस की जाती है। इसे बैकअप या ऑक्सीलरी मेमरी भी कहा जाता है।

सेकेंडरी मेमोरी के उदाहरण :
Floppy Disk, Hard Disk, Magnetic Card, Tape Cassette, Flash Memory ( Solid-state drive (SSD), Pen Drive, SD Card), CD, DVD, Blue ray and Cloud Storage.


नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.