7/06/2022

श्रीनिवास रामानुजन और उनसे जुड़े 10 रोचक तथ्य : 10 interesting Facts About Srinivasa Ramanujan


श्रीनिवास रामानुजन का जन्म इरोड, मैसूर साम्राज्य (अब तमिलनाडु, भारत) में एक तमिल ब्राह्मण अयंगर परिवार में 22 दिसंबर, 1887 को हुआ था। बिना किसी औपचारिक प्रशिक्षण के ही उन्होंने गणित के क्षेत्र में अद्भुत योगदान दिया जिसे आज भी याद किया जाता है। इस पोस्ट में हैम श्रीनिवास रामानुजन से जुड़े 10 तथ्यों को जानेंगे :


  1. जब रामानुजन 13 वर्ष के थे, तब वे लोनी के त्रिकोणमिति अभ्यास को बिना किसी सहायता के कर सकते थे। और कागज महंगे होने की वजह से वे अक्सर स्लेट का इस्तेमाल करते थे।
  2. उन्होंने वर्ष 1904 में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति प्राप्त हुई, परंतु गैर-गणितीय विषयों में असफल होने के कारण उन्होंने इसे जल्दी ही खो दिया। मद्रास (अब चेन्नई) में कॉलेज में एक और प्रयास कला परीक्षा में फेल होने की वजह से असफल रहा।
  3. श्रीनिवास रामानुजन की गणित में रुचि जॉर्ज शूब्रिज कैर की एक पुस्तक "ए सिनोप्सिस ऑफ एलीमेंट्री रिजल्ट्स इन प्योर एंड एप्लाइड मैथमेटिक्स (1880, 1886 में संशोधित)" की वजह से जगी थी।
  4. रामानुजन ने अपनी नोटबुक में 1/pi को अनंत श्रृंखला के रूप में दर्शाने के 17 तरीके लिखे।
  5. रामानुजन ने अपना पहला पेपर वर्ष 1911 में जर्नल ऑफ इंडियन मैथमैटिकल सोसाइटी में प्रकाशित किया।
  6. रामानुजन वर्ष 1918 में रॉयल सोसाइटी के दूसरे भारतीय फेलो और उसी वर्ष वे कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज के पहले भारतीय फेलो बने।
  7. जब रामानुजन बीमार थे तब हार्डी उनसे मिलने के लिए कैब से पहुचे। जब वे वहां पहुंचे, तो उन्होंने रामानुजन को बताया कि कैब का नंबर, 1729, रामानुजन ने कहा, " यह बहुत दिलचस्प संख्या है। यह दो अलग-अलग तरीकों से दो घनों के योग के रूप में व्यक्त की जाने वाली सबसे छोटी संख्या है। यानी 1729 = 1^3 + 12^3 = 9^3 + 10^3। इस संख्या को अब हार्डी-रामानुजन संख्या कहा जाता है।
  8. हार्डी ने गणितीय क्षमता का एक पैमाना बनाया जो 0 से 100 तक चला गया। उन्होंने खुद को 25 पर रखा। महान जर्मन गणितज्ञ डेविड हिल्बर्ट 80 वर्ष के थे। रामानुजन 100 वर्ष के थे।
  9. रामानुजन अक्सर कहते थे, "मेरे लिए एक समीकरण का कोई अर्थ नहीं है, जब तक कि वह ईश्वर के विचार का प्रतिनिधित्व न करे।"
  10. जब 26 अप्रैल 1920 में 32 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई, तो रामानुजन अपने पीछे तीन नोटबुक और कागजों का एक ढेर ("खोई हुई नोटबुक") छोड़ गए। इन नोटबुक्स में हजारों परिणाम थे जो दशकों बाद भी गणितीय कार्य को प्रेरित कर रहे हैं।