भारतीय संविधान से संबंधित 10 रोचक तथ्य


भारतीय संविधान का निर्माण 2 वर्ष, 11 महीने और 18 दिन में किया गया था। जिसे संविधान सभा द्वारा 26 नवम्बर 1949 को अंतिम प्रारूप तैयार किया गया और नागरिक, निर्वाचन, अंतरिम संसद संबंधित 15 अनुच्छेदो को लागू कर दिया गया। संविधान सभा की अंतिम बैठक 24 जनवरी 1950 में हुई तथा 26 जनवरी 1950 से सम्पूर्ण संविधान प्रभावी हुआ। 26 नवम्बर भारत के संविधान दिवस के रूप में घोषित किया गया है जबकि 26 जनवरी का दिन भारत में गणतन्त्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भारत का संविधान, भारत का सर्वोच्च विधान है। इस विधान से संबंधित 10 रोचक तथ्य निम्न है:-

1. 9 दिसंबर, 1946 ई० को संविधान सभा की प्रथम बैठक नई दिल्ली स्थित काउंसिल चैम्बर के पुस्तकालय भवन में हुई। सभा के सबसे बुजुर्ग सदस्य डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा को सभा का अस्थायी अध्‍यक्ष चुना गया। 11 दिसंबर 1946 को कमिटी का स्थायी अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद को बनाया गया था। डॉ भीमराव अम्बेडकर को प्रारूप समिति के अध्यक्ष के रूप में चुना गया।

2. संविधान की मूल प्रति पूर्ण रूप से हस्त लिखित है, इसे प्रेम बेहारी नारायण रायजादा ने लिखा था। इस मूल प्रति को आज भी हीलियम के अंदर डाल के भारतीय संसद की लाइब्रेरी में रखा गया है।

3. प्रस्तावना पृष्ठ, भारत के मूल संविधान के अन्य पन्नों के साथ-साथ जबलपुर के प्रसिद्ध चित्रकार बीओहर राममनोहर सिन्हा द्वारा तैयार किया गया था, जो उस समय नृत्याल नंदनल बोस के साथ शांतिनिकेतन में था।

4. भारतीय संविधान विश्व के किसी भी गणतांत्रिक देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है। मूल संविधान में 22 भाग, 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियां। वर्तमान संविधान के 22 भाग हैं जिनमे 465 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियां हैं।

5. संविधान को पारित करने से पहले इस पर चर्चा की गयी थी जिसमे 2000 बदलाव किये गए थे। इस कार्य पर लगभग 6.4 करोड़ रुपये खर्च हुए। संविधान के प्रारूप पर कुल 114 दिन बहस हुई।

6. भारत का संविधान 26 नवंबर को तैयार कर लिया गया था मगर तत्कालीन सरकार के द्वारा इसे 26 जनवरी 1950 को लागू करवाया गया था। संविधान पारित होने के बाद सभी 284 संसद सदस्यों से इस पर हस्ताक्षर लिए गए जिनमे 15 महिला सदस्य भी शामिल हैं। हैदराबाद एक ऐसी रियासत थी, जिसके प्रतिनिधि संविधान सभा में सम्मिलित नहीं हुए थे।

7. पांच वर्षीय योजना को रूस के संविधान से लिया गया था और मौलिक अधिकारों को अमेरिका के संविधान से लिया गया था। समानता , एकाधिकार और कई ऐसे अन्य अधिकार फ्रेंच रेवोलुशन से लिए गए थे। यह सारे अधिकार आज के सन्दर्भ में भी अतिमहत्वपूर्ण हैं।

8. संविधान के शुरुआती शब्द अमेरिका के संविधान से प्रेरित हैं जिनका उल्लेख आज भी देखने को मिल जाता है।किसी भी नागरिक के मूलभूत अधिकार भी अमेरिकी संविधान से प्रेरित हैं।

9. गणतंत्र दिवस: अबाइड विथ मी गाने को गणतन्त्र दिवस की परेड में बजाया जाता है। भारतीय सरकार द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार जैसे कि भारत रत्न, पद्म भूषण, कीति चक्र आदि गणतंत्र दिवस के दिन ही दिए जाते हैं।

10. भारतीय संविधान में ऐसा नियम है कि गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति व स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री देश को संबोधित (संबोधन) करेंगे।


EmoticonEmoticon