भारत के प्रतिष्ठित पुरस्कार/सम्मान –Prestigious Awards / Honors of India


साहित्य अकादमी पुरस्कार : यह भारत की प्रमुख भाषाओं में साहित्य के मामले में दिया जाने वाला सबसे सम्मानित पुरस्कार है। इसे वर्ष 1954 में स्थापित किया गया था। 1,00,000 रुपये का चेक, "सत्यजीज रे" द्वारा डिजाइन की गई साहित्य अकादमी पट्टिका प्रदान की जाती है।  


परम वीर चक्र : युद्ध में अप्रतिम सैन्य प्रदर्शन के लिए दिया जाने वाला पुरस्कार। इसे 0 मेंंh 26 जनवरी के रोज स्थापित किया गया था।अलग-अलग राज्यों के लिए तयशुदा धनराशिएक कांस्य पदक जिसके बीच में राज्य प्रतीक और उसके चारों तरफ चार इंद्र के वज्र बने होते हैं।एक सनद जिस पर राष्ट्रपति की मुहर लगी होती है और राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है।


भाषा सम्मान : इस पुरस्कार से सम्मानित करने का काम साहित्य अकादमी करती है। इसके तहत 24 स्थापित भाषाओं के अलावा क्लासिकल और मध्यकालीन साहित्य में बेहतर करने वालों को सम्मानित किया जाता है। इसे वर्ष 1996 में स्थापित किया गया था।1,00,000 रुपये, स्मरण पटि्टका प्रदान किया जाता है।


युवा पुरस्कार : यह पुरस्कार साहित्य अकादमी द्वारा नवलेखन में दिया जाता है। साहित्य में 35 की उम्र से कम के उभरते हुए साहित्कारों को इस पुरस्कार से नवाजा जाता है। 50,000 रुपये, एक तांबे की पट्टिका प्रदान किया जाता है।


पद्म पुरस्कार (पद्म विभूषण, पद्म भूषण, पद्म श्री) : इस पुरस्कार को भारत रत्न के बाद सबसे सम्मानित पुरस्कार माना जाता है। यह पुरस्कार अलग-अलग विधाओं में बेहतरीन काम करने वाले नागरिकों को दिया जाता है। इस पुरस्कार को वर्ष 1954 में स्थापित किया गया था।इस पुरस्कार में सोने, चांदी या फिर कांस्य पदक दिए जाते हैं।राष्ट्रपति की मुहर वाली सनद जिसे राष्ट्रपति के द्वारा प्रदान किया जाता है।


भारत रत्न : इसे भारत का सबसे सम्मानित नागरिक पुरस्कार माना जाता है। किसी भी विधा में बेहतरीन कार्य करने वालों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।एक प्लेटिनम पट्टिका जिस पर सत्यमेव जयते खुदा होता है। एक सनद जिस पर राष्ट्रपति की मुहर होती है और राष्ट्रपति के द्वारा  प्रदान किया जाता है।



अशोक चक्र : यह भारत में शांति के दौरान सैन्य सेवा में अप्रतिम धैर्य व साहस के लिए दिया जाने वाला सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार है। इसे वर्ष 1952 में स्थापित किया गया था।अलग-अलग राज्यों के तयशुदा धनराशिकांस्य पदक जिसके बीचोबीच अशोक चक्र खुदा होता है। एक सनद जिस पर राष्ट्रपति की मुहर होती है और राष्ट्रपति के द्वारा  प्रदान किया जाता है।


गांधी शांति पुरस्कार : सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्र में गांधीवादी तौरतरीकों से काम करने वाली संस्थाओं और शख्सियतों को दिया जाने वाला पुरस्कार। इसे भारत सरकार देती है। 


जल/थल/वायु पद : कयह पुरस्कार सेना में युद्ध और शांति के दौरान अप्रतिम साहस के प्रदर्शन के लिए दिया जाता है। इस पुरस्कार में एक मेडल दिया जाता है जिसमें दो एंकर होते हैं और एक हिमालय का चील बना होता है। 


राजीव गांधी खेल रत्न : यह भारत में खेल के मामले में दिए जाने वाले सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कारों में से एक है। बीते चार वर्षों में बेहतरीन खेल के प्रदर्शन के लिए इस पुरस्कार को दिया जाता है। इसे वर्ष 1991 में स्थापित किया गया था।75,000 रुपये कैशएक सनद जिस पर राष्ट्रपति की मुहर होती है और राष्ट्रपति ही प्रदान करते हैं।एक पदक जिस पर राजीव गांधी खेल रत्न हिंदी और अंग्रेजी में लिखा होता है। साथ ही इस पर राज्य प्रतीक भी बना होता है।


राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार : यह पुरस्कार 6 वर्ष से 18 वर्ष के बीच के ऐसे बच्चों को दिया जाता है जिन्होंने विषम परिस्थितियों में अदम्य साहस का परिचय दिया होता है। इस पुरस्कार को पांच कैटेगरी में बांटा गया है और इनमें से सबसे प्रतिष्ठित भारत पुरस्कार है।कैटेगरी के हिसाब से कैशकैटेगरी के हिसाब से पदकएक सनद जिस पर राष्ट्रपति की मुहर होती है और राष्ट्रपति ही प्रदान करते हैं। इंदिरा गांधी स्कॉलरशिप के तहत आगे की पढ़ाई के लिए वित्तीय मदद की जाती है।


ध्यानचंद पुरस्कारभारत सरकार द्वारा लाइफ टाइम अचीवमेंट के लिए दिया जाने वाला सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार। देश के दिग्गज हॉकी खिलाड़ी के नाम पर स्थापित इस पुरस्कार की शुरुआत वर्ष 2002 में हुई थी। 50,000 रुपये कैशमेजर ध्यानचंद की कांसे से बनी एक मूर्तिएक मेडल जिस पर मेजर ध्यानचंद का अक्स खुदा होता है। एक प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है।


अर्जुन पुरस्कार : राष्ट्रीय स्तर व देशी स्तर पर खेले जाने वाले खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए दिया जाने वाला पुरस्कार। यह पुरस्कार वर्ष 1961 में स्थापित किया गया था और इसके तहत विशेष रूप से सक्षम खिलाड़ियों को भी पुरस्कृत किया जाता है।5,00,000 रुपये कैशकांसे से बनी अर्जुन की प्रतीकात्मक मूर्तिप्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है।


द्रोणाचार्य पुरस्कार : यह पुरस्कार खेल में बेहतरीन कोचिंग के लिए दिया जाता है। हिन्दू धर्म की मिथकीय कहानियों में द्रोणाचार्य अर्जुन के गुरु हैं जो अर्जुन को दुनिया का बेहतरीन धनुर्धर बनाते हैं। इस पुरस्कार की शुरुआत वर्ष 1985 से हुई है।गुरु द्रोणाचार्य की कांस्य प्रतिमा7,00,000 रुपये कैश प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है।



इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार : इस पुरस्कार से भारत द्वारा पूरी दुनिया की बेहतरीन संस्थाओं और शख्सियतों को नवाजा जाता है। जिन्होंने पूरी दुनिया में शांति और नए आर्थिक सुधारों में अहम योगदान किए हैं। इस पुरस्कार की स्थापना वर्ष 1986 में हुई थी।25,00,000 रुपये और प्रमाणपत्र प्रदान किया जाता है।

नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.