काशी विश्वनाथ मंदिर का इतिहास और वर्तमान - Kashi Vishvanath Temple



काशी विश्वनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित सबसे प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों में से एक है। यह भारत में उत्तर प्रदेश के वाराणसी के विश्वनाथ गली में स्थित है। मंदिर पवित्र गंगा नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है। यह बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है।


पौराणिक इतिहास :
बारह ज्योतिर्लिंगों में प्रमुख काशी विश्वनाथ मंदिर अनादिकाल से काशी में है। यह स्थान शिव और पार्वती का आदि स्थान है इसीलिए आदिलिंग के रूप में अविमुक्तेश्वर को ही प्रथम लिंग माना गया है। इसका उल्लेख महाभारत और उपनिषद में भी किया गया है।  11 ईसा पूर्व में राजा हरीशचन्द्र ने जिस विश्वनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था उसका सम्राट विक्रमादित्य ने जीर्णोद्धार करवाया था। 



प्राचीन इतिहास :

राजघाट की खुदाई में भगवान अविमुक्तेश्वर (विश्वेश्वर / विश्वनाथ) दिनांक 9-10 शताब्दी ईसा पूर्व की एक मुहर की खोज की गई थी। वैन्यागुप्त ने 508-10 सीई के दौरान मंदिर का पुनर्निर्माण किया। ह्वेनसांग (Xuanzang) ने 635 CE में वाराणसी का दौरा किया और अपनी पुस्तक में मंदिर का उल्लेख किया। स्कंद पुराण के काशी खंड (खंड) सहित पुराणों में मंदिर का उल्लेख है।


मध्यकालीन इतिहास :

मूल विश्वनाथ मंदिर को मोहम्‍मद गौरी के गुलाम कुतुबुद्दीन ऐबक की सेना ने 1194 ई. में जयचंद को चंदवार के युद्ध में हर कर तबाह कर दिया और वह राजिया मस्जिद बनवाया। वर्ष 1230 दौरान एक गुजराती व्यापारी द्वारा मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया था। वर्ष 1447 में जौनपुर के सुल्तान महमूद शाह द्वारा पुनः तोड़ दिया गया। 


मुगलकालीन इतिहास :

राजा मान सिंह ने मुगल सम्राट अकबर के शासन के दौरान मंदिर का निर्माण कराया था। परंतु लोगो ने मान सिंह के द्वारा बनाये गए मंदिर में प्रवेश करने से मना कर दिया।

राजा टोडर मल ने 1585 में अपने मूल स्थान पर अकबर के वित्त पोषण से मंदिर को फिर से बनाया। जहांगीर के शासन के दौरान, वीर सिंह देव ने पुराने मंदिर का जीर्णोद्धार किया और निर्माण पूरा किया। वर्ष 1642 में शाहजहां ने मंदिर को तोड़ने के आदेश दिए थे। 


वर्ष 1669 में, औरंगजेब ने मंदिर को नष्ट कर दिया और उसके स्थान पर ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण किया। 

ऐसा माना जाता है कि, जब औरंगजेब की मंदिर को नष्ट करने की योजना की खबर पहुंची, तो मंदिर के मुख्य पुजारी ने ज्योतिर्लिंग को आक्रमणकारियों से बचाने के लिए लिंग के साथ मंदिर परिसर में कुएं में छलांग लगा दी। इस कुएं को ज्ञान कूप या ज्ञानव्यापी कूप कहा जाता है।

पुराने मंदिर के अवशेष नींव, स्तंभों को ज्ञानवापी मस्जिद के पिछले हिस्से में देखे जा सकते हैं।


अंग्रेज शासनकाल :

1742 में, मराठा शासक मल्हार राव होल्कर ने मस्जिद को ध्वस्त करने और स्थल पर विश्वेश्वर मंदिर के पुनर्निर्माण की योजना बनाई। हालाँकि, उनकी योजना आंशिक रूप से अवध के नवाब के हस्तक्षेप के कारण अमल में नहीं आई, जिसे क्षेत्र का नियंत्रण दिया गया था। 1750 के आसपास, जयपुर के महाराजा ने काशी विश्वनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए जमीन खरीदने के उद्देश्य से साइट के आसपास की भूमि का एक सर्वेक्षण शुरू किया।  हालांकि, मंदिर के पुनर्निर्माण की उनकी योजना भी पूरी नहीं हुई। वर्ष 1780 में, मल्हार राव की बहू अहिल्याबाई होल्कर ने मस्जिद से सटे वर्तमान मंदिर का निर्माण किया।

वर्ष 1809 में काशी के हिन्दुओं ने मस्जिद पर कब्जा कर लिया था, क्योंकि यह संपूर्ण क्षेत्र ज्ञानवापी मं‍डप का क्षेत्र है जिसे वर्तमान में ज्ञानवापी मस्जिद कहा जाता है। 30 दिसंबर 1810 को बनारस के तत्कालीन जिला दंडाधिकारी मि. वाटसन ने "वाइस प्रेसीडेंट इन काउंसिल" को एक पत्र लिखकर ज्ञानवापी परिसर हिन्दुओं को हमेशा के लिए सौंपने को कहा था, लेकिन यह कभी संभव नहीं हो पाया।

वर्ष 1828 में, ग्वालियर राज्य के मराठा शासक दौलत राव सिंधिया की विधवा बैजा बाई ने ज्ञान वापी क्षेत्र में 40 से अधिक खंभों के साथ एक नीची छत का निर्माण किया। वर्ष 1833-1840 ईस्वी के दौरान, ज्ञानवापी कुएँ की सीमा, घाट और आसपास के अन्य मंदिरों का निर्माण किया गया था। 

वर्ष 1835 में सिख साम्राज्य के महाराजा रणजीत सिंह ने अपनी पत्नी दातार कौर के कहने पर मंदिर के गुंबद को चढ़ाने के लिए 1 टन सोना दान किया था। वर्ष 1841 में, नागपुर के रघुजी भोंसले ने मंदिर को चांदी का दान दिया। 1860 के दशक में नेपाल के राणा द्वारा नंदी बैल की एक 7 फुट ऊंची पत्थर की मूर्ति उपहार में दिया गया था।


आजाद भारत :

दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद श्रृंगार गौरी (ज्ञानवापी मस्जिद के पीछे ) की लंबे समय से चली आ रही पूजा को रोक दिया गया था।

2019 में, काशी विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना की कल्पना मंदिर और गंगा नदी के बीच पहुंच को आसान बनाने के लिए की गई थी, जिससे भीड़भाड़ को रोकने के लिए एक व्यापक स्थान बनाया गया था। इसकी आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी थी। इस परियोजना का लक्ष्य मंदिर के कुल क्षेत्रफल को लगभग 50,000 वर्ग मीटर तक बढ़ाना है। लगभग 1,400 निवासियों और व्यवसायों को कहीं और स्थानांतरित किया गया और मुआवजा दिया गया, और 40 से अधिक खंडहर मंदिरों को पाया गया और उनका पुनर्निर्माण किया गया।

13 दिसंबर 2021 में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक पवित्र समारोह और हर हर महादेव के साथ साइट का उद्घाटन किया।


नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.