सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना Satati canal project

सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना का लोकार्पण 11 दिसंबर, 2021 को बलरामपुर से किया गया। सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना के तहत पांच नदियों घाघरा, सरयू, राप्ती, बाणगंगा और रोहिणी को आपस में जोड़ा गया है। इससे तराई और पूर्वांचल के 9 जिलों के किसानों को फायदा होगा।

वर्ष 1978 में बहराइच और गोंडा जिले में घाघरा कैनाल (लेफ्ट बैंक) के नाम से यह परियोजना शुरू हुई। 1982-83 में इसका विस्तार पूर्वांचल के ट्रांस घाघरा-राप्ती-रोहिणी क्षेत्र में करते हुए नौ और जिलों को भी इसमें शामिल किया गया। तब भारत सरकार ने इसका नाम बदलकर सरयू परियोजना रख दिया। परियोजना की महत्ता एवं उपयोगिता के ध्यान में रखते हुए केंद्र ने 2012 में इसे राष्ट्रीय परियोजना घोषित कर दिया।


लाभान्वित जिले :

बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, गोंडा, बस्ती, महाराजगंज, सिद्धार्थनगर, संत कबीर नगर और गोरखपुर।



नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.