कंप्यूटर का इतिहास और विकास : History of computer and development



प्रारम्भ में मानव गणना के लिए लाठी, पत्थर और हड्डियों का इस्तेमाल करते थे। समय के साथ मानव मन और प्रौद्योगिकी में सुधार हुआ और अधिक कंप्यूटिंग उपकरणों का विकास गणना के लिए हुआ। ऐसे ही उपकरणों के बारे में हम इस आर्टिकल में बात करेंगे।


अबेकस (Abacus)

अबेकस को दुनिया का पहला कंप्यूटर माना जाता है। इसे चीनियों के द्वारा लगभग 4,000 साल पहले बनाया गया था।यह एक लकड़ी का रैक होती है, जिसमें धातु की छड़ें लगी होती हैं जिन पर मोतियों की माला होती है। इन मोतियों का इस्तेमा गणना के लिए होती है।


नेपियर बोन्स (Napier's Bones)

यह एक मैन्युअल रूप से संचालित गणना उपकरण था जिसका इसका आविष्कार मर्चिस्टन के जॉन नेपियर (1550-1617) ने किया था। इसमे  गुणा और भाग करने के लिए 9 अलग-अलग हाथीदांत पट्टियों या संख्याओं के साथ चिह्नित हड्डियों का उपयोग किया जाता था। जिस वजह से इसका नाम "नेपियर बोन्स" पड़ा। यह दशमलव बिंदु का उपयोग करने वाला पहला यंत्र था।


पास्कलाइन (Pascaline)

पास्कलाइन का अविष्कार (1642 - 1644) एक फ्रांसीसी गणितज्ञ-दार्शनिक बायिस पास्कल ने किया था। इसे पहला यांत्रिक और स्वचालित कैलकुलेटर (Automatic calculator) माना जाता है। वर्ष 1673 में जर्मन गणितज्ञ-दार्शनिक गॉटफ्राइड विल्हेम लिबनिट्ज़ ने इस मशीन में सुधार कर Stepped Reckoner or Leibnitz wheel का अविष्कार किया था, जो गियर के बजाय यह ड्रमों से बना होता था।


डिफरेन्स इंजन (Difference Engine)

डिफरेन्स इंजन को 1820 के दशक में चार्ल्स बैबेज के द्वारा डिजाइन किया गया था, जिन्हें "आधुनिक कंप्यूटर के पिता" के रूप में जाना जाता है। यह एक भाप से चलने वाला यांत्रिक कंप्यूटर था जो सरल गणना कर सकता था। इसे लॉगरिदम टेबल जैसी संख्याओं की तालिका को हल करने के लिए डिज़ाइन किया गया था।


अनालीटिक इंजन (Analytical Engine)

इस मशीन को वर्ष 1830 में चार्ल्स बैबेज द्वारा ही विकसित किया गया था। इस यांत्रिक कंप्यूटर में इनपुट के रूप में पंच-कार्ड का उपयोग किया जाता तंग। यह किसी भी गणितीय समस्या को हल करने और सूचनाओं को स्थायी स्मृति के रूप में संग्रहीत करने में भी सक्षम था।


डिफरेंशियल एनालाइजर (Differential Analyzer)

वर्ष 1930 में वन्नेवर बुश और हेरोल्ड लोके हेज़ेन के द्वारा MIT में आविष्कार किया गया था। यह पहले आधुनिक कंप्यूटिंग उपकरणों में से एक था। 


Mark 1 (मार्क I)

वर्ष 1944 में, मार्क I कंप्यूटर को IBM और हार्वर्ड के बीच एक साझेदारी के रूप में बनाया गया पहला प्रोग्रामेबल डिजिटल कंप्यूटर था। मार्क I पर पहला प्रोग्राम 29 मार्च 1944 को जॉन वॉन न्यूमैन ने चलाया था।

















नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.