इंटरनेट प्रोटोकॉल ( IP ) एड्रेस क्या होता है ? What is Internet protocol ? In Hindi

इंटरनेट प्रोटोकॉल (Internet Protocol - IP) किसी कंप्यूटर का पता होता है, जिसका इस्तमाल दो कंप्यूटरों के मध्य संपर्क स्थापित करने के लिए किया जाता है। इन नियमो का प्रयोग कर नेटवर्क सीमाओं के पार डेटाग्राम (Datagram) को प्रसारित किया जाता है। IP के दो प्रकार (Version) है, IPv4 एक 32-बिट पता है, जबकि IPv6 एक 128-बिट हेक्साडेसिमल पता है। IPv6 के एड्रेस को चार हेक्साडेसिमल अंकों के आठ समूहों के रूप में दर्शाया जाता है।


डेटाग्राम ?

जब हम एक कम्प्यूटर(Source) से दूसरे कम्प्यूटर (Destination) में कोई डेटा भेजा जाता है तो इसे छोटे-छोटे टुकडों में बांटकर भेजा जाता है इन तुकड़ो को IP Packets अथवा Datagram कहा जाता है।


इतिहास :

1974 में विंट सेर्फ़ और बॉब कान द्वारा शुरू किए गए मूल ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोग्राम में आईपी कनेक्शन रहित डेटाग्राम सेवा थी, जो एक कनेक्शन-उन्मुख सेवा द्वारा पूरक थी जो ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (टीसीपी) का आधार बन गई। इसलिए इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट को अक्सर टीसीपी/आईपी के रूप में जाना जाता है।

आईपी ​​​​का पहला प्रमुख संस्करण, इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 4 (आईपीवी 4), इंटरनेट का प्रमुख प्रोटोकॉल है। इसके बाद  IPv4 में आ रही परेशानियों को हल करने के लिए 1998 में 1Pv6 लाया गया।

 

नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.