डोमेन नेम (Domain Name) क्या होता है? इसका इस्तेमाल क्या है ?



डोमेन नाम टेक्स्ट की एक स्ट्रिंग है जो एक संख्यात्मक IP पते पर मैप करता है, जिसका उपयोग क्लाइंट सॉफ़्टवेयर से वेबसाइट तक पहुंचने के लिए किया जाता है। आसान भाषा में, डोमेन नाम अंग्रेजी भाषा का पाठ (Text) है जिसका इस्तेमाल एक आम उपयोगकर्ता किसी विशेष वेबसाइट तक पहुंचने के लिए वेब ब्राउज़र विंडो में टाइप करता है। उदाहरण के लिए, Chhattisgarhgyan का डोमेन नाम 'Chhattisgarhgyan.in' है। Symbolics.com पहला पंजीकृत डोमेन था। यह 15 मार्च, 1985 को पंजीकृत किया गया था।


किसी वेबसाइट का वस्तव में एक संख्यात्मक IP पता होता है।DNS डोमेन नामों को IP पतों में अनुवाद करता है ताकि आम उपयोगकर्ता के लिए ब्राउज़र इंटरनेट संसाधनों को लोड कर सके।


डोमेन नाम और URL के बीच अंतर ?

एक यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स लोकेटर (URL), जिसे वेब पता भी कहा जाता है, इसमे वेबसाइट के डोमेन का नाम और साथ ही प्रोटोकॉल और पथ सहित अन्य जानकारी शामिल होती है। उदाहरण के लिए, 'https://Chhattisgarh gyan.in/learning/' URL में, इसमे 'Chhattisgarh gyan.in' डोमेन नाम है, जबकि 'https' प्रोटोकॉल है और '/learning/' पर वेबसाइट के एक विशिष्ट पृष्ठ का पथ है।


DNS क्या है?

डोमेन नेम सिस्टम (Domain Name System - DNS)इंटरनेट की फोनबुक है। जिसमे संबंधित डोमेन नाम के साथ उसका IP पता होता है। सामान्य उपयोगकर्ता डोमेन नाम, जैसे Chhattisgarhgyan.in के माध्यम से ऑनलाइन जानकारी प्राप्त करते हैं। परन्तु, वेब ब्राउज़र इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) पतों के माध्यम से इंटरैक्ट करते हैं।

नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.