Download Chhattiagarh Gyan App

पोर्टो नोवो का युद्ध


पोर्टो नोवो का युद्ध वर्ष 1781 में मैसूर के हैदरअली और सर आयरकूट के नेतृत्व में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी फ़ौजों के बीच की गई।
वर्ष 1781 में कोलेरून नदी के तट पर हुए युद्ध में हैदर अली के पुत्र टीपू सुल्तान ने 400 फ़्राँसीसी सैनिकों के सहयोग से 100 ब्रिटिश और 1,800 भारतीय सैनिकों को पराजित कर दिया। 1781 में ही अप्रैल में जब अंग्रेज़ हैदर अली और टीपू सुल्तान को मैदान में स्थित उनके प्रमुख शस्त्रागार अरनी के क़िले से खदेड़ने का प्रयास कर रहे थे, तो पोर्टो नोवो में 1,200 फ़्राँसीसी सैनिक उतरे और कड्डालोर पर क़ब्ज़ा कर लिया। जॉर्ज मैकार्टने द्वारा मद्रास (वर्तमान चेन्नई) के गवर्नर का पद सम्भालने के बाद ब्रिटिश नौसेना ने नागपट्टिणम पर अधिकार कर लिया और हैदर अली को यक़ीन दिला दिया कि वह अंग्रेज़ों को नहीं रोक सकते। इसमें हैदरअली की हार हुई और भारी क्षति उठानी पड़ी।