कहानी भारत के पहले हिंदी समाचार पत्र की - Story of First Hindi News Paper



उदन्त मार्तण्ड, यही नाम था भारत के पहले समाचार पत्र का। उदन्त मार्तण्ड का अर्थ होता है "उगता सूर्य"। इस समाचार पत्र की सुरुआत जुगल किशोर शुक्ला ने 30 मई, 1826 में कोलकाता से की थी। यह एक साप्ताहिक समाचार पत्र था जो प्रत्येक मंगलवार को छापता था।


हिंदी पत्रकारिता की सुरुआत और अंत:

हालांकि पहला हिंदी समाचार पत्र उदन्त मार्तण्ड था। परंतु भारतीय भाषा के पहले समाचार पत्र "समाचार दर्पण" (बंगाली भाषा) भी अपने समाचार पत्र के कुछ भागों को हिंदी (देवनागरी) में छापा करते थे। कानपुर से कोलकाता आये वकील जुगल किशोर शुक्ला ने इस बीच 16 फरवरी 1826 को, कोलकाता के मुन्नू ठाकुर के साथ हिंदी में एक समाचार पत्र प्रकाशित करने का लाइसेंस प्राप्त किया। और प्रकाशन की सुरुआत की। 

हिंदी भाषीय लोगो से दूर होने की वजह से जुगल किशोर जी को ग्राहक ढूंढने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वित्तीय संकट के कारण 4 दिसंबर 1827 को उदन्त मार्तण्ड के प्रकाशन को बंद कर दिया गया।


हिंदी पत्रकारिता दिवस :

उदन्त मार्तण्ड के सुरुआत ( 30 मई ) को भारत में हिंदी पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाता है।





नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.