सक्ती जिला – Sakti zila



सक्ती जिला गठन की घोषणा 15 अगस्त, 2021 को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा की गई थी। जांजगीर–चांपा जिले से पृथक हो कर,चार ब्लाक सक्ती, मालखरौदा, जैजैपुर और डभरा को मिलाकर  यह जिला बनाया जा सकता है। इस तरह नवगठित जिले में 295 पंचायत और 458 गांव होंगे।  


इतिहास:

अंग्रेज शासन के दौरान सक्ति, सक्ति राज्य की राजधानी हुआ करती थी। यह छत्तीसगढ़ में स्थित 14 रियासतों (  princely states ) में से एक था। इस रियासत की स्थापन हरी और गुर्जर नामक दो राज गोड़ों ने किया था। वर्ष 1865 में सक्ति को एडाप्सन सनद दिया गया।


संभावित पर्यटन स्थल :

नगर्दा (Nagarda)

अड़भार ( Adbhaar )

मालखरौदा तहसील में स्थित शहर सक्ती से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक प्राचीन मंदिर है। इसका निर्माण 5वीं शताब्दी में माना जाता है। जिसमें आठ हाथ वाली देवी विराजमान है। नवरात्रि के अवसर पर यहॉ ज्योति कलश जलाया जाता हैं।


दमाऊधारा ( Damau Dhara )

सक्ती तहसील में सक्ति-कोरबा के रास्ते में एक आकर्षण का केन्द्र हैं यहॉ प्राकृतिक पानी का जल प्रपात, गुफाएॅ रामजानकी मंदिर, राधाकृष्ण मंदिर, ऋषभ देव मंदिर इत्यादि है। इसके पास ही अन्य पर्यटन स्थल पंचवटी, सीतामणी आदि स्थित है।


नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.