सुझाव

नमस्कार ! जय जोहर !

इस ब्लॉग को अपना अमूल्य समय देने के लिए आपका धनयवाद। हम इस ब्लॉग को और भी ज्यादा उपयोगी बनाना चाहते है जिसके लिए हम प्रयासरत है।
यदि आप हमें सुझाव देना चाहते है तो आपका स्वागत है। नीचे कमेंट बॉक्स में आप अपना सुझाव लिख सकते है। 


धन्यवाद ! 
प्रवीण  सिंह   ChhattisgarhGyan.in   






13 comments

बहुत ही सारगर्भित और सराहनीय प्रयास । और भी जानकारी साझा करें..

छ.ग. के जिलों की जिलेवार जानकारियों को उल्लेखित किया जाए ।

बिहान योजना पर और अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है

Cg ke history me balend rajpooto ka v yogdan h kudargadh ke mandir etc. To ap unhe v history me jagah Di jaye

आप के द्वारा दिये गए सुझाव पर हम कार्य कर रहें है।
आप मन के सुझाव बर धन्यवाद।

pairi nadi ka udgam sthal gram bhathigarh vikaskhand mainpur de anargat aata hai ,purwajo duwara kaha jata hai ki pahad par jaha pairi nadi ka udgam sthan hai ,esi jagah ke aaspaas agasat rishi g ka tapo sthal raha hai ,yaha par ram kathA KO SUNNE BHAGWAN BHOLE NATH MATA PARWATI KE SATH AATE THE ,AK DIN MATA KA PAIRI (PAYAL) GIR JANE SE US STHAN PAR MATA GANGA KI DHARA KA UDAY HUAA HAI ,JISE PAIRI NADI KE NAAM SE JANA JATA HAI

Free test series start kijiye.
C.G. govt. Ke dwara start ki gayi Yojnao Ka vistirt rup Dikhaye

मिथिलेश साहू

छत्तीसगढ़ के किशोर कुमार के नाम से प्रसिद्द छत्तीसगढ़ी लोकगीतों के पुरोधा माने जाने वाले मिथिलेश साहू का जन्म गरियाबंद जिले के छोटे से गाँव बारुका में हुआ,उनके पिता जीवनलाल साहू पुरे क्षेत्र मे गौंटिया कहलाते थे तथा अपनी लोकप्रियता के बल पर राजिम विधानसभा क्षेत्र से विधायक भी रहें थे ।
मिथिलेश साहू अपने पिता कि तरह राजनीति से परे अपनी रूचि संगीत,गायन तथा शिक्षण कार्य मे लगाते थे,मिथिलेश साहू अपने बड़े भाई भूपेन्द्र साहू के साथ छत्तीसगढ़ी लोकगीतों मे कई रचनायें कि है,भूपेन्द्र साहू भोपाल के ‘भारत भवन’ में संगीत में निर्देशन कि शिक्षा प्राप्त करने के बाद छत्तीसगढ़ मे लोकगीतों मे अनेक कार्य किये तथा अपने मिथिलेश साहू को मुख्य गायक बनाया ।
मिथिलेश साहू कि लोकप्रियता उनके द्वारा गए गीत ‘बाघ नंदिया’ से मिली जिसने पुरे छत्तीसगढ़ मे लोकप्रियता हासिल किया, मिथिलेश साहू को पद्मश्री ममता चंद्राकर के रूप मे सह गायिका मिला और इस जोड़ी ने कई गीत गाये छत्तीसगढ़ी फिल्मो ‘मया दे दे मया ले ले’ ‘कारी’ ‘परदेशी के मया’ आदि फ़िल्मों ने इस जोड़ी को नया मुकाम दिलाया ।
मिथिलेश साहू वर्तमान मे शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय फुलकर्रा मे शिक्षक के रूप मे कार्यरत है तथा स्वास्थ्यगत अस्वस्थ्यता के बावजूद भी दृढ़निश्चय के साथ सेवा दे रहे है ।
मिथिलेश साहू कि टीम ‘रंग सरोवर’ के नाम से लोककला मंच चलाती है लेकिन वर्तमान मे वो अस्वस्थ्य होने के कारण अपना समय नही दे पा रहे है छत्तीसगढ़ के ऐसे महान कलाकार कि शीघ्र स्वास्थ्य लाभ हो ऐसी हम कामना करते है ।

Mujhe chattisgarhi lok parampara air lok jeevan par nibandh chahiye

छत्तीसगढ़ के ऑल गढ़ो का इतिहास उल्लेखित कीजिए

छत्तीसगढ़ के ऑल किलो की इतिहास उल्लेखित कीजिए

Sir is sal s lok suraj ko bnd krke sbhi jilo m sikayat center ki sthapna kiya jaye kyuki n hi lok suraj m sikayat ka hal niklta h ar n hi jan darshan m iske bdle m sbhi jilo m sikayat center ki sthapna kiya jaye jo sidhe jila coleecotr k control m ho ar pr week unke hasthakhr s jo bhi vibhag ka sikyat us vibhag m bheja jaye
Dhanywad sir

2018-19 आर्थिक सर्वेक्षण डालिए.धन्यवाद .


EmoticonEmoticon