शिक्षा बजट 2020


उच्च शिक्षा के बजट (Higher Education Budget) में इस बार पिछले वर्ष की तुलना में 1100 करोड़ से अधिक का इजाफा हुआ है। केंद्रीय बजट (Union Budget 2020) में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों यानी आईआईटी (IIT) के लिए इस बार कुल आवंटन 7,332 करोड़ रुपये रखा गया है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 14.38 प्रतिशत अधिक है।

केंद्रीय बजट में शिक्षा के लिए 99,300 करोड़ रुपये का प्रावधान है। इनमें से उच्चतर शिक्षा का कुल आवंटन 39466.52 करोड़ रुपये है. विगत वर्ष के 38317.01 करोड़ रुपये की तुलना में इस वर्ष 1149.51 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है।

2020-21 में केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए कुल आवंटन 8657.90 करोड़ रुपये रखा गया है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 12.39 प्रतिशत अधिक है. वहीं राष्ट्रीय तकनीकी संस्थानों (NIT) के लिए कुल आवंटन 3885 करोड़ रुपये रखा गया है, जो पिछले साल की तुलना में 2.58 प्रतिशत अधिक है. उच्च शिक्षा से जुड़े नियामकों यूजीसी व एआईसीटीई के लिए कुल आवंटन 5109.20 करोड़ रुपये रखा गया है।

उच्च शिक्षा के गुणवत्ता उन्नयन और समावेशन कार्यक्रम नामक एक नई योजना की परिकल्पना की गई है। इस योजना के लिए 1413 करोड़ रुपये का प्रारंभिक बजटीय प्रावधान किया गया है।

प्रधानमंत्री नवीन शिक्षण कार्यक्रम (डीएचआरयूवी) प्रतिभाशाली बच्चों को उनके कौशल के लिए प्रोत्साहित और ज्ञान को समृद्ध करने और प्रोत्साहित करने के लिए एक नई योजना प्रधानमंत्री नवीन शिक्षण कार्यक्रम (डीएचआरयूवी) वित्त वर्ष 2020-21 से परिकल्पित की गई है। केवीएस आवंटन में रुपये 504.50 करोड़ वृद्धि हुई है और रुपये 232 करोड़ की वृद्धि एनवीएस आवंटन बी.ई. 2019-20 की तुलना में।