गण्डक परियोजना


गण्डक परियोजना भारत की नदी घाटी परियोजनाओं में से एक है। इसकी शुरुआत वर्ष 1961 में हुई थी। यह बिहार, उत्तर प्रदेश और नेपाल की संयुक्त परियोजना है। नदी गंडक पर सूरतपुरा (नेपाल) में हाइड्रो बिजली का उत्पादन किया जाता है। ये बांध बिहार में भैसलोतन (वाल्मीकि नगर) में बनाया गया है। 4 दिसंबर,1959 को भारत और नेपाल के बीच गंडक सिंचाई एवं विद्युत परियोजना पर हस्ताक्षर हुआ।

इस परियोजना की निम्नलिखित इकाइयाँ हैं- 
वाल्मीकि नगर के निकट 740 मीटर लंबा एक बैराज़ है। 
पूर्वी मुख्य नहर या तिरहुत नहर के द्वारा बिहार के चंपारण, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, समस्तीपुर तथा नेपाल के परसावारा और राउतहाट ज़िलों की सिंचाई होती है। 
पूर्वी मुख्य नहर पर 15 मेगावाट विद्युत क्षमता की एक इकाई की स्थापना की गयी है।

नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.