बागजान औधोगिक आपदा - Baghjan Oil Fire Field

असम के तिनसुकिया ज़िले में ‘ऑयल इंडिया लिमिटेड’ (Oil India Limited- OIL) के बागान (Baghjan) गैस कुएँ में तेल रिसाव 27 मई से बेकाबू हो गई थी, जिसने 9 जून को आग पकड़ ली थी । सिंगापुर की एक कंपनी अलर्ट डिजास्टर के विशेषज्ञ कुएं पर नियंत्रण के लिए सक्रिय तौर पर काम कर 9 जून को आग पकड़ ली थी। इस आग की चपेट में आने से ऑयल इंडिया के 2 कर्मचारियों की मौत हो गई थी।


प्रभाव :

इस घटना की वजह से लगभग 2,500 से 3,000 लोगों को राहत शिविरों में भेजा गया है। गैस रिसाव से "नदी डॉल्फिन" तथा अनेक प्रकार की मछलियों की मृत्यु हो गई। स्थानीय लोगों ने आँखों में जलन, सिरदर्द आदि जैसे लक्षणों की भी शिकायत की।

गैस रिसाव क्षेत्र के पास में महत्त्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (Important Bird Area- IBA)"मगुरी-मोटापुंग वेटलैंड (Maguri-Motapung Wetland)" है। इसके पास हि डिब्रू-सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान है।


नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.