गुरु घासीदास बाबा Guru Ghasidas Baba

जन्म - 18 दिसंबर 1756
स्थान - गिरौदपुरी ( बलौदाबाजार जिला )
पिता - महंगू दास
माता - अमरौतिनबाई
मृत्यु - 1836
स्थान - भंडारपुरी ( बलौदा बाजार जिला )

छत्तीसगढ़ राज्य में सनातन धर्म के संस्थापक गुरु घासीदास का जन्म 18 दिसंबर 1756 में बलौदाबाजार जिले में गिरौधपुरी में हुआ था। इनके बचपन का नाम घसिया तथा पत्नी का नाम सुफरा था।
इन्होंने 1820 में सनातन पंथ की स्थापना की थी। इन्हें ज्ञान की प्राप्ति छाता पहाड़ में और-धौरा वृक्ष के नीचे हुआ था। इन्होंने 7 उपदेश दिए और मनखे-मनखे एक का नारा दिया। इनके शिष्य सतनामी कहलाये और इनकी पूजा स्थली जैतखंभ है। सत्य और सात्यिक आचरण के प्रतीक के रूप में जैतखंभ पर सफेद झण्डा फहराया जाता है।

इन्होंने अंतिम उपदेश जांजगीर-चाँम्पा जिले के दल्हापोंड़ी स्थान में दिया था।