गढ़ धनोरा पुरातात्विक स्थल – Garh Dhanaura Archaeological site

भोरम देव


गढ़ धनोरा पुरातात्विक स्थल ( Garh Dhanaura Archaeological site ) कोंडागांव जिले के केशकाल तहसील में स्थित है। यह ऐतिहासिक व धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थल है। यहां टीलों की खुदाई पर अनेक शिव मंदिर प्राप्त हुए है। यहां स्थित एक टीले पर कई शिवलिंग है, यह गोबरहीन (Gobarhin) के नाम से प्रसिद्ध है। 


मंदिर समूह :

यहां मंदिरों के तीन समूहों की पहचान विष्णु मंदिर समूह, बंजारिन मंदिर समूह और गोबरहिन मंदिर समूह के रूप में की गई है। विष्णु मंदिर समूह में 10 मंदिर शामिल हैं जिनमें विष्णु, शिव और नरसिंह मंदिर शामिल हैं। बंजारिन मंदिर समूह में चार खंडहर मंदिर और आवासीय भवनों के अवशेष शामिल हैं। गोबरहिन समूह के पास एक बड़ा ईंट का टीला है जिसके शीर्ष पर गर्भगृह में शिव लिंग है और अन्य छोटे मंदिर अवशेष हैं। सभी ईंट संरचनाओं का निर्माण लगभग 5वीं-7वीं शताब्दी में नलवंशी शासकों के शासनकाल के दौरान किया गया था।


इन्हे देखें :

छत्तीसगढ़ के पुरातात्विक स्थल

नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.