बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव Babu Chotelal Shrivastava



जन्म : 28 फरवरी, 1889 

मृत्यु : 18 जुलाई, 1974


बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता सेनानी थे। जिनका जन्म 28 फरवरी, 1889 को वर्तमान धमतरी जिले के कंडेल ग्राम में हुआ था। इन्होंने पंडित सुंदरलाल शर्मा और नारायण मेघावले के साथ भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा लिया। इन्होंने वर्ष 1915 में शिवस्तव पुस्तकालय की स्थापना की थी। धमतरी में इनका घर स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े लोगो के लिए एक प्रमुख केंद्र था। वर्ष 1918 में "Dhamtari Tehsil Political Council" की स्थापना की गई, बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव इसके प्रमुख संस्थापक सदस्यों में से एक थे।


स्वंत्रता आंदोलन एवं राजनीति:

बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव ने किसानों का नेतृत्व करते हुए ब्रिटिश राज के अत्याचार के खिलाफ प्रदर्शन किया। वर्ष 1920 में कंडेल नहर सत्याग्रह ( जल सत्याग्रह ) में बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव का विशेष योगदान रहा। वर्ष 1921 में, उन्होंने स्वदेशी आंदोलन के लिए खादी उत्पादन केंद्र की स्थापना की। वर्ष 1922 में श्याम लाल सोम के नेतृत्व में सिहावा में एक जंगल सत्याग्रह हुआ, जिसमें बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव ने पूरा समर्थन किया। वर्ष 1930 में रुद्री जंगल सत्याग्रह में बाबू साहब ने सक्रिय भूमिका निभाई। फिर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। वर्ष 1933 में, गांधी, छत्तीसगढ़ की अपनी दूसरी यात्रा पर, इमली गए। वहां उन्होंने बाबू छोटे लाल के नेतृत्व की तारीफ की। 

वर्ष 1937 में श्रीवास्तव धमतरी नगर पालिका निगम के अध्यक्ष चुने गए। 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में बाबू साहब की भी सक्रिय भूमिका निभाई थी। 


मृत्यु : 

बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव की मृत्यु 18 जुलाई 1976 को थी।


नई टिप्‍पणियों की अनुमति नहीं है.