भड़म और सैतम नृत्य - Bhadam and Saitam Dance

भड़म एवं सैतम दोनों ही भारिया जनजाति के लोगो के द्वारा किया जाने वाला पारंपरिक नृत्य है। ये जनजाति छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में निवास करते है।

भड़म नृत्य को भढ़नी या भंगम नृत्य भी कहा जाता है भारिया जनजाति में यह नृत्य विवाह के अवसर पर किया जाता है इस नृत्य में ढोलक वादक एक पंक्ति में खड़े रहता है और टीमकी वादक खुले में रहते हैं। भारिया लोग समांतर गति में धीरे धीरे कम घूमते हुए संगीत की ताल के साथ कदम से कदम मिलाकर यह नृत्य करते है।

सैतम नृत्य भारिया महिलाओं द्वारा किया जाने वाला एक पारंपरिक नृत्य है इसमें हाथों में मंजीरा लेकर युवतियाँ दो दलो में विभाजित हो कर आमने-सामने खड़े होते हैं और इनके बीच में एक पुरुष ढोल बजाता है एक महिला दो पंक्ति गाती है और शेष महिलाएं उसे दोहराते हुए नृत्य करती है।

इन्हे भी देखें :
विश्व आदिवासी दिवस
छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित अनुसूचित क्षेत्र
छत्तीसगढ़ में विशेष पिछड़ी जनजाति
विशेष पिछड़ी जनजातियों हेतु मुख्यमंत्री 11 सूत्री कार्यक्रम
अनुसूचित जनजातियों की समस्याएँ 
अनुसूचित जनजातियों की साक्षरता दर
अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम 1989


EmoticonEmoticon