परघोनी/ परघौनी नृत्य - Parghauni Nritya


परघोनी / परघौनी नृत्य छत्तीसगढ़ में बेगा/बैगा ( Baiga ) आदिवासियों द्वारा विवाह के अवसर पर बारात अगवानी के लिए किया जाने वाला लोक नृत्य है। परघौनी का अर्थ बारात स्वागत होता है।
इस नृत्य का मुख्य उद्देश्य प्रसन्नता की अभिव्यक्ति है नृत्य में वर पक्ष की ओर से एक हाथी बना कर चला जाता है यह एक अनुष्ठान के रूप में होता है यह नृत्य बैगा जीवन चक्र का एक अटूट हिस्सा माना जाता है।


इन्हे भी देखें :
विश्व आदिवासी दिवस
छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित अनुसूचित क्षेत्र
छत्तीसगढ़ में विशेष पिछड़ी जनजाति
विशेष पिछड़ी जनजातियों हेतु मुख्यमंत्री 11 सूत्री कार्यक्रम
अनुसूचित जनजातियों की समस्याएँ 
अनुसूचित जनजातियों की साक्षरता दर
अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम 1989


EmoticonEmoticon